Wednesday, February 15, 2017

चांदनी रात

चांदनी रात में
तारों की बारात में
ख्वाबों के रथ पर सवार
मेरा मन कही खोया हुआ
कल्पना की उड़ान भरता हुआ
ज़िन्दगी के उन पलो को याद करके
मुस्कराया ऐसे जैसे वर्षो की
धुंध आँखों के सामने से छट गई हो!

चांदनी रात में
तारों की बारात में
विचारों के झंझावात ने
मुझे झकझोर कर रख दिया
मेरी सोई हुई कल्पना को
चंद पल में ऐसे जगा गई
जो वर्षो पहले गुजारा था
वो पल में सामने आ गया!

चांदनी रात में
तारों की बारात में
कल्पना के सफ़ेद घोड़े पर
सवार मेरा मन
यादों के बाग़ में विचरण कर रहा था
ऐसा लग रहा था मानो
सारी यादें मेरे सामने ही खड़ी हो
वर्षो की याद
पल भर में ताजा हो गई
इस चांदनी रात का शुक्रिया
किन शब्दों में करू
आज शब्द भी कम पड़ गए
इस चांदनी रात में
यादों की बारात में!

चांदनी रात में
तारों की बारात में
हम तो कही खो गए
हर रात चांदनी रात हो
यूँ ही कल्पना की उड़ान हो
बरसो की ज़िन्दगी पल भर में जी लें
बस हर रात ऐसी ही सुहावनी रात हो!!