Wednesday, March 15, 2017

धरा

हरा रंग हैं हरी हमारी
धरती की अंगड़ाई
केसरिया बल भरनेवाला
सादा हैं सच्चाई
केसरिया अब द्वार खड़ा हैं
जीवन नया बदलने को
फिर कब तक हम बाट देखते
जाती बंधन के बीच फंसे
आज़ादी के लिए तरसते
अपना भविष्य दूसरों के हाथ सौंप कर
खूदको अपराधी कहलाते
अपने ही काम के ख़ातिर
बख्शीश बाँट कर अपराध को
खुद ही हवा देते रहेंगे!

हरा रंग हैं हरी हमारी
धरती की अंगड़ाई
केसरिया बल भरनेवाला
सादा हैं सच्चाई
लेकिन अब नया सूर्योदय होगा
कीचड़ में भी कमल खिलेगा
मन से सारे मैल धुलेंगे
कमल की ही तरह
हमारी धरती को खिलना होगा
मोदी की अगुवाई में
देश को बदलना ही होगा
हर ओर ख़ुशियों की लहर होगी
जात-पात के बंधन से मुक्त
हमारी ये धरती होगी
राम-राम के जयघोष से
गूंज उठेगी ये धरती
विश्व गुरु बनने के लिए
हमने कदम बढ़ा दी हैं
अब मंज़िल पर पहुंच के ही दम लेंगे
हम भारत माता की संतान हैं
अपनी धरती को हरा-भरा
और माहौल को केसरिया बनाके ही दम लेंगे!!