Tuesday, March 7, 2017

बदलाव

हर रोज़ प्रकृति से दूर हो रहे
खतरे में अस्तित्व परा हैं
आज के मानव जाति का
वायु प्रदुषण चरम पे पहुंचा
जल धरती से दूर हो रहा
गर्मी अपने चरम पे पहुंची
ठण्ड ने बदला मिजाज़ अपना
वसंत आता हैं कब
और चला जाता हैं कब
हम सोचते रह जाते हैं
फाग के रंग भी फीके पड़ गए
रंग मिलावट के भेंट चढ़ गए
मिठास कड़वाहट में बदला
दिल से दिल की दूरी बढ़ गई
कोई किसी से गले न मिलता
गिले शिकवे दूर न करते
छोटी-छोटी बातों में भी
सबकी इगो आड़े आती
गाडी की आवाज ने हमको
दर्द के एहसास से दूर कर दिया
ज़िन्दगी की कीमत
शानो-शौकत के आगे फीकी पड़ गई
अपनों के प्यार की जगह
पैसो ने ले लिया
शहरों की तस्वीर बदली
पर हमने अपनी सूरत
कब बदल के रख दी
जिसका हमें पता ही नहीं चला
काश फिर से वही दिन और
वही रात आ जाती
हममें अपनों के लिए जीने का
फिर से हुनर आ जाता
प्रक्रति मेहरबान फिर से
हर ओर हो जाती!!