Friday, April 7, 2017

मन की बात

रात का सपना
कब होता हैं अपना
रोज़ का रोना हैं यह
फिर तुम क्यों डरते हो
करना जो तुम वही करो
पर कुछ भी दर कर न करो!

करना हैं जो करो
मन को अपने वश में करो
सोचों न जो बीत गया
पर आने वाले दिन को जियो!

करना हैं जो करो
चाँद की दूरी घटती जा रही हैं
पर अपनों के बीच चाँद से भी बड़ी दूरी हैं
हर आदमी की अपनी एक मजबूरी हैं!

करना हैं जो करो
सबकुछ अपने वश में हो
ऐसा वहम कभी न करो
जी लो हर दिन को
चाहे खट्टा हो या मीठा
अनुभव तो अनुभव हैं
कभी तो काम आएगी
आँखों में आँसू दे कर हो
या चेहरे पर मुस्कराहट
हर कीमत पर ज़िन्दगी
एक अनमोल हीरा हैं
इसको सहेज के रखना ही हैं
प्रभु की बंदगी!!