Wednesday, May 24, 2017

जल

जीवन जल के खातिर हैं
जल जीवन अनमोल
मौसम के मारे हुए  
जल के सहारे पार  
जल जितना निर्मल हुआ
मन निर्मल कर देत
मन के मैल को छोड़िये
जल को स्वच्छ बनाओं
मन तो अपने हाथ में
जल स्वछता मुश्किल
वक्त बुरा अब आ रहा हैं
जल दुर्लभ होता गया
शहर पत्थरों में तब्दील
बड़े-बड़े गुम्बदो से
अटा पड़ा हैं पार्क
जल की एक न धारा
कहां को प्यास बुझाए
हर गरीब के हाथ नहीं
बोतल का पानी पी सके
हे शहरों में रहने वाले
पत्थर की जगह पानी का करो इंतज़ाम
जीवन खुशियों से भर जाएगा
प्यासे जीवन की प्यास बुझाकर
कुछ नेक काम कर डालो
पत्थर के शहर में रहने वालों
ए पत्थरदिल भाई
सुंदरता गाँव में भी बस्ती हैं
थोड़ा नैन खोलकर देखो मेरे भाई
स्वच्छ सड़क और शुद्ध पेयजल
गैस कनेक्शन, बिजली घर
यही चार चीज़ चाहिए
फिर गाँवों की सुंदरता में

चार चाँद लग जाएगा!!