Monday, May 29, 2017

जीवन पथ

तुम जीवन पथ पर
निरंतर आगे बढ़ते रहो
कहीं पत्थर कही कंकड़
कहीं गहरी मिलेगी खाई भी
कही ठोकर कहीं उलझन
कहीं विश्वास के भी घात का
सहना पड़ेगा दंश भी
गैरों से भी अपनों की खातिर
अपमान के कुछ घूँट भी पीने पड़ेंगे
जीवन के झंझावात में
राही जो हैं तूफ़ान में
डटकर खड़ा रहता सदा
सफलता की सीढियां अक्सर
वही चढ़ता सदा
पैरों में थे जख्म फिर भी
चल दिए तूफ़ान में
मंजिलों की चाह में
राह फिर दिखता कहाँ
अनगिनत पत्थर मेरे पावों से
यूँ टकराए थे
जैसे हमको चूर-चूर करके
वो चले जायेंगे
पर हमारा बाल भी बांका नहीं
वो कर सका
तुम जीवन पथ पर

निरंतर आगे बढ़ते रहो!!