Thursday, June 15, 2017

बनारस

नदी आइना हैं नदी का किनारा
ये बहता हुआ जल हैं जीवन हमारा
इसे स्वच्छ रखना हैं धर्म हमारा
हमें पावन नगरी का दर्शन हैं करना
हैं गंगा किनारे ये रमणीक शहर
नगरी बनारस मुझे भा गया हैं
ये गंगा की लहरें ये बलखाती नाँव
आरती शाम की दीपकों का नज़ारा
भरी भीड़ में आस्था का नज़ारा
वो ठहरी हुई शाम की रागनी भी
जैसे गंगा की लहरे ठहर सी गई हो
सभी आरती में मगन हो रहे हैं!

गली तंग इतनी की हम खो गए हैं
मगर घुमने में मजा आ रहा हैं
था नया वो शहर लोग सब अजनबी थे
मगर गर्मजोशी से सब मिल रहे थे
नजारा अजब था बड़ा उस शहर का
हर तरफ भीड़ थी पर सुकू चैन भि था
गंगा कि पवन ख़ुशी दिख रही थी
जमी आसमा मुस्कुराने लगे थे
शहर सो गया था पर हम जग रहे थे
नदी की लहर शान से चल रही थी
वो तनहइयो को सुना कुछ रही थी

वजह गुनगुनाने की हमको मिली थी!!