Friday, June 9, 2017

मेघा

बदरी छाई रे छाई रे बदरी छाई रे
बड़े दिनों के बाद हम बे बतनों के याद
बदरी आई रे आई रे बदरी आई रे

                                                    मैं हूँ तेरा शुक्रगुज़ार मेघा आ जा बारम्बार
                                                    मेरी छतरी भी उड़ जाए
                                                    कर दो इतनी तेज़ फुहार
                                                    मन भीग-भीग मेरा जाए
                                                    कर दो इतनी तुम बरसात

पत्थरों के शहर में चले आये हम
बारिशों की तमन्ना भि कैसे करे
सांस घुटने लगी दिन निकलने लगा
राह में गाड़ियों का हैं तांता लगा
 
                                                  आज बरसात हैं रोज़ की बात हैं
                                                  हमारे लिए एक समाचार हैं
                                                  काली-काली घटा आसमां में दिखी
                                                  मन मचलने लगा, पर पर थिरकने लगा.